Monday, February 19, 2024
HomeFII/DIIविदेशी निवेशक ने बेचाई गति कम की, जबकि घरेलू संस्थान ने स्थिर...

विदेशी निवेशक ने बेचाई गति कम की, जबकि घरेलू संस्थान ने स्थिर गति बनाई रखी

8 सितंबर, 2023 को भारतीय स्टॉक मार्केट ने विदेशी संस्थानिक निवेशकों (FIIs) की बेचाई गतियों को कम करते हुए घरेलू संस्थानिक निवेशकों (DIIs) के निवेशों की स्थिर गति को देखा।

विदेशी संस्थानिक निवेशक (FIIs)
– नकद सेगमेंट में, FIIs ने ₹13,653.37 करोड़ के ग्रॉस खरीददारी की।
– उनकी ग्रॉस बेचाई ₹14,700.56 करोड़ थी।
– इसके परिणामस्वरूप, FIIs ने नकद सेगमेंट में -₹1,047.19 करोड़ के नेट बेचाई का आंकड़ा दर्ज किया।
– डेरिवेटिव्स मार्केट में, FIIs ने मिश्रित गतिविधि दिखाई:
– सूची भविष्य विभाग में, FIIs ने ₹4,192.58 करोड़ के ग्रॉस खरीददारी की और ₹3,086.10 करोड़ के ग्रॉस बेचाई की, जिससे ₹1,106.48 करोड़ की नेट खरीददारी हुई।
– स्टॉक फ्यूचर्स सेगमेंट में, FIIs ग्रॉस खरीददारी करने में जारी रहे, जिसमें ₹20,045.42 करोड़ के खरीददारी और ₹21,367.89 करोड़ के बेचाई हुई। इससे ₹1,322.47 करोड़ की नेट बेचाई हुई।
– ऑप्शन्स सेगमेंट में, FIIs सक्रिय रहे:
– सूची ऑप्शन में, FIIs ने ₹1,864,816.22 करोड़ के ग्रॉस खरीददारी की और ₹1,837,788.60 करोड़ के ग्रॉस बेचाई की, जिससे ₹27,027.62 करोड़ की नेट बेचाई हुई।
– स्टॉक ऑप्शन में, FIIs ने ₹30,928.85 करोड़ के ग्रॉस खरीददारी की और ₹31,762.71 करोड़ के ग्रॉस बेचाई की, जिससे -₹833.86 करोड़ की नेट बेचाई हुई।

नकद सेगमेंट में FIIs की कम बेचाई गतियों और सूची भविष्य और सूची ऑप्शन्स में बढ़ी खरीददारी एक अधिक संतुलित संवाद की संकेत देती है।

घरेलू संस्थानिक निवेशक (DIIs)
– नकद सेगमेंट में, DIIs ने अपनी

सकारात्मक दृष्टिकोण बनाए रखी, जिसमें ₹10,341.00 करोड़ की ग्रॉस खरीददारी की।
– DIIs की ग्रॉस बेचाई ₹10,081.51 करोड़ थी।
– इससे नकद सेगमेंट में ₹259.49 करोड़ की नेट खरीददारी हुई।

म्यूच्यूअल फंड्स और बीमा कंपनियों सहित DIIs ने बाजार में निवेश में यथासम्भाव सटीक दृष्टिकोण बनाए रखा, जिससे बाजार में जारी सहमति का प्रतिस्थिति दिखाई देती है।

आज की बाजार गतिविधि FIIs की नकद सेगमेंट में कम बेचाई गतियों की प्रकटि करती है और सूची भविष्य और सूची ऑप्शन्स में बढ़ी खरीददारी की ओर इंगीत करती है, जो एक अधिक संतुलित भावना की ओर इशारा करती है।

निवेशक और विश्लेषक आगामी सत्रों में FIIs और DIIs के कार्यों का सुनिश्चित रूप से निगराना करेंगे, क्योंकि ये अक्सर बाजार की दिशा और निवेशक भावना के बारे में मूल्यवान जानकारी प्रदान करते हैं।

Rupesh Kumar Singh
Rupesh Kumar Singhhttp://www.news-next.in
Rupesh Kumar Singh, a seasoned journalist since 2005, excels in crime and business journalism, known for accuracy and insightful reporting.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments